बारह तिरुमुरै पद्य और अर्थ
दानकर्ता दान कीजिए
चौथा तिरुमुरै
113 दशके, 1070 पद्य, 50 मन्दिर
001 तिरुवदिहै वीरट्टाऩम्
 
इस मन्दिर का चलचित्र                                                                                                                   बंद करो / खोलो

 

Get Flash to see this player.


 
काणॊलित् तॊहुप्पै अऩ्बळिप्पाहत् तन्दवर्गळ्
इराम्चि नाट्टुबुऱप् पाडल् आय्वु मैयम्,
५१/२३, पाण्डिय वेळाळर् तॆरु, मदुरै ६२५ ००१.
0425 2333535, 5370535.
तेवारत् तलङ्गळुक्कु इक् काणॊलिक् काट्चिहळ् कुऱुन्दट्टाह विऱ्पऩैक्कु उण्डु.


 
पद्य : 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10
पद्य संख्या : 2 पद्य: कॊल्लि

நெஞ்சம்உமக் கேயிட மாகவைத்தேன் நினையாதொரு போதும் இருந்தறியேன்
வஞ்சம்இது வொப்பது கண்டறியேன் வயிற்றோடு துடக்கி முடக்கியிட
நஞ்சாகிவந் தென்னை நலிவதனை நணுகாமல் துரந்து கரந்தும்இடீர்
அஞ்சேலும்என் னீர்அதி கைக்கெடில வீரட்டா னத்துறை அம்மானே.

नॆञ्जम्उमक् केयिड माहवैत्तेऩ् निऩैयादॊरु पोदुम् इरुन्दऱियेऩ्
वञ्जम्इदु वॊप्पदु कण्डऱियेऩ् वयिट्रोडु तुडक्कि मुडक्कियिड
नञ्जाहिवन् दॆऩ्ऩै नलिवदऩै नणुहामल् तुरन्दु करन्दुम्इडीर्
अञ्जेलुम्ऎऩ् ऩीर्अदि कैक्कॆडिल वीरट्टा ऩत्तुऱै अम्माऩे.
 
इस मन्दिर का गीत                                                                                                                     बंद करो / खोलो

Get the Flash Player to see this player.

 
इस मन्दिर का चित्र                                                                                                                                   बंद करो / खोलो
   

अनुवाद:

अदिकै के केडिलम् नदी के तट पर स्थित, वीरस्थान नामक देवालय में प्रतिष्ठित मेरे आराध्यदेव! मेरे पिताश्री! मैंने इस दास के हृदय को आपही के निवास के लिए रखा है। कभी मैं तुम्हारा स्मरण किये बिना नहीं रहा। इस शूल-रोग की तरह भयंकर रोग का मैंने कभी अनुभव नहीं किया। यह शूल-रोग इस दास के पेट में प्रवेष कर विष सम सता रहा है। हे प्रभु ! मेरे ऊपर कृपा कीजिए यह शूल-रोग फिर आकर न सतावे। इसे दूर भगाइये, मुझे आश्रय प्रदान कीजिए।।

रूपान्तरकार डॉ.एन.सुन्दरम 2000
சிற்பி