बारह तिरुमुरै पद्य और अर्थ
दानकर्ता दान कीजिए
पाँचवां तिरुमुरै
100 दशके, 1015 पद्य, 76 मन्दिर
001 कोयिल्
 
इस मन्दिर का चलचित्र                                                                                                                   बंद करो / खोलो

 

Get Flash to see this player.


 
काणॊलित् तॊहुप्पै अऩ्बळिप्पाहत् तन्दवर्गळ्
इराम्चि नाट्टुबुऱप् पाडल् आय्वु मैयम्,
५१/२३, पाण्डिय वेळाळर् तॆरु, मदुरै ६२५ ००१.
0425 2333535, 5370535.
तेवारत् तलङ्गळुक्कु इक् काणॊलिक् काट्चिहळ् कुऱुन्दट्टाह विऱ्पऩैक्कु उण्डु.


 
पद्य : 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11
पद्य संख्या : 9

வில்லை வட்டப் படவாங்கி யவுணர்தம்
வல்லைவட் டம்மதில் மூன்றுடன் மாய்த்தவன்
தில்லைவட் டந்திசை கைதொழு வார்வினை
ஒல்லைவட் டங்கடந் தோடுத லுண்மையே.

विल्लै वट्टप् पडवाङ्गि यवुणर्दम्
वल्लैवट् टम्मदिल् मूण्ड्रुडऩ् माय्त्तवऩ्
तिल्लैवट् टन्दिसै कैदॊऴु वार्विऩै
ऒल्लैवट् टङ्गडन् तोडुद लुण्मैये.
 
इस मन्दिर का गीत                                                                                                                     बंद करो / खोलो

Get the Flash Player to see this player.

 
इस मन्दिर का चित्र                                                                                                                                   बंद करो / खोलो
   

अनुवाद:

प्रभु मेरु पर्वत को धनुष बनाकर त्रिपुर राक्षसों को विनष्ट करने वाले हैं। वे तिल्लै चिटंªबलम् में प्रतिष्ठित हैं। उस दिषा की ओर करबद्ध होकर नमन करने वाले भक्तों के सारे कर्म-बन्धन विनष्ट हो जाएँगे। यह सत्य है।

रूपान्तरकार - डॉ.एन.सुन्दरम 2000
சிற்பி