दानकर्ता दान कीजिए
आठवां तिरुमुरै
76 दशके, 1058 पद्य
01 तिरुवासहम्-सिवबुराणम्
 
इस मन्दिर का चलचित्र                                                                                                                   बंद करो / खोलो

 

Get Flash to see this player.


 
काणॊलित् तॊहुप्पै अऩ्बळिप्पाहत् तन्दवर्गळ्
इराम्चि नाट्टुबुऱप् पाडल् आय्वु मैयम्,
५१/२३, पाण्डिय वेळाळर् तॆरु, मदुरै ६२५ ००१.
0425 2333535, 5370535.
तेवारत् तलङ्गळुक्कु इक् काणॊलिक् काट्चिहळ् कुऱुन्दट्टाह विऱ्पऩैक्कु उण्डु.


 
पद्य : 1
पद्य संख्या : 1

நமச்சிவாய வாஅழ்க நாதன்தாள் வாழ்க
இமைப்பொழுதும் என்நெஞ்சி னீங்காதான் தாள்வாழ்க
கோகழி யாண்ட குருமணிதன் தாள்வாழ்க
ஆகம மாகிநின் றண்ணிப்பான் தாள்வாழ்க
ஏகன் அநேகன் இறைவ னடிவாழ்க 5
வேகங் கெடுத்தாண்ட வேந்தனடி வெல்க
பிறப்பறுக்கும் பிஞ்ஞகன்றன் பெய்கழல்கள் வெல்க
புறத்தார்க்குச் சேயோன்றன் பூங்கழல்கள் வெல்க
கரங்குவிவார் உள்மகிழுங் கோன்கழல்கள் வெல்க
சிரங்குவிவார் ஓங்குவிக்குஞ் சீரோன் கழல்வெல்க 10
ஈச னடிபோற்றி எந்தை யடிபோற்றி
தேச னடிபோற்றி சிவன்சே வடிபோற்றி
நேயத்தே நின்ற நிமல னடிபோற்றி
மாயப் பிறப்பறுக்கும் மன்ன னடிபோற்றி
சீரார் பெருந்துறைநம் தேவ னடிபோற்றி 15
ஆராத இன்பம் அருளுமலை போற்றி
சிவனவன்என் சிந்தையுள் நின்ற அதனால்
அவனரு ளாலே அவன்தாள் வணங்ங்கிச்
சிந்தை மகிழச் சிவபுரா ணந்தன்னை
முந்தை வினைமுழுதும் மோய உரைப்பனியான் 20
கண்ணுதலான் தன்கருணைக் கண்காட்ட வந்தெய்தி
எண்ணுதற் கெட்டா எழிலார் கழலிறைஞ்சி
விண்ணிறைந்து மண்ணிறைந்து மிக்காய் விளங்கொளியாய்
எண்ணிறந் தெல்லை யிலாதானே! நின்பெருஞ்சீர்
பொல்லா வினையேன் புகழுமா றொன்றறியேன் 25
புல்லாகிப் பூடாய்ப் புழுவாய் மரமாகிப்
பல்விருக மாகிப் பறவையாய்ப் பாம்பாகிக்
கல்லாய் மனிதராய்ப் பேயாய்க் கணங்களாய்
வல்லசுர ராகி முனிவராய்த் தேவராய்ச்
செல்லாஅ நின்றஇத் தாவர சங்கமத்துள் 30
எல்லாப் பிறப்பும் பிறந்திளைத்தேன் எம்பெருமான்
மெய்யேஉன் பொன்னடிகள் கண்டின்று வீடுற்றேன்
உய்யஎன் உள்ளத்துள் ஓங்கார மாய்நின்ற
மெய்யா விமலா விடைப்பாகா வேதங்கள்
ஐயா எனஓங்கி ஆழ்ந்தகன்ற நுண்ணியனே 35
வெய்யாய் தணியாய் இயமான னாம்விமலா
பொய்யா யினவெல்லாம் போயகல வந்தருளி
மெய்ஞ்ஞான மாகி மிளிர்கின்ற மெய்ச்சுடரே
எஞ்ஞானம் இல்லாதேன் இன்பப் பெருமானே
அஞ்ஞானம் தன்னை அகல்விக்கும் நல்லறிவே 40
ஆக்கம் அளவிறுதி இல்லாய் அனைத்துலகும்
ஆக்குவாய் காப்பாய் அழிப்பாய் அருள்தருவாய்
போக்குவாய் என்னைப் புகுவிப்பாய் நின்தொழும்பின்
நாற்றத்தின் நேரியாய் சேயாய் நணியானே
மாற்றம் மனங்கழிய நின்ற மறையோனே 45
கறந்தபால் கன்னலொடு நெய்கலந்தாற் போலச்
சிறந்தடியார் சிந்தனையுள் தேனூறி நின்று
பிறந்த பிறப்பறுக்கும் எங்கள் பெருமான்
நிறங்களோ ரைந்துடையாய் விண்ணோர்க ளேத்த
மறைந்திருந்தாய் எம்பெருமான் வல்வினையேன் தன்னை 50
மறைந்திட மூடிய மாய இருளை
அறம்பாவம் என்னும் அருங்கயிற்றாற் கட்டிப்
புறந்தோல்போர்த் தெங்கும் புழுவழுக்கு மூடி
மலஞ்சோரும் ஒன்பது வாயிற் குடிலை
மலங்கப் புலனைந்தும் வஞ்சனையைச் செய்ய 55
விலங்கு மனத்தால் விமலா உனக்குக்
கலந்தஅன் பாகிக் கசிந்துள் ளுருகும்
நலந்தான் இலாத சிறியேற்கு நல்கி
நிலந்தன்மேல் வந்தருளி நீள்கழல்கள் காஅட்டி
நாயிற் கடையாய்க் கிடந்த அடியேற்குத் 60
தாயிற் சிறந்த தயாவான தத்துவனே
மாசற்ற சோதி மலர்ந்த மலர்ச்சுடரே
தேசனே! தேனா ரமுதே சிவபுரனே
பாசமாம் பற்றறுத்துப் பாரிக்கும் ஆரியனே
நேச அருள்புரிந்து நெஞ்சில்வஞ் சங்கெடப் 65
பேராது நின்ற பெருங்கருணைப் பேராறே
ஆரா அமுதே அளவிலாப் பெம்மானே
ஓராதார் உள்ளத் தொளிக்கும் ஒளியானே
நீராய் உருக்கியென் ஆருயிராய் நின்றானே
இன்பமுந் துன்பமும் இல்லானே உள்ளானே 70
அன்பருக் கன்பனே யாவையுமாய் அல்லையுமாஞ்
சோதியனே துன்னிருளே தோன்றாப் பெருமையனே
ஆதியனே அந்தம் நடுவாகி அல்லானே
ஈர்த்தென்னை யாட்கொண்ட எந்தை பெருமானே
கூர்த்தமெய்ஞ் ஞானத்தாற் கொண்டுணர்வார் தங்கருத்தின் 75
நோக்கரிய நோக்கே நுணுக்கரிய நுண்ணுணர்வே
போக்கும் வரவும் புணர்வுமிலாப் புண்ணியனே
காக்குமெங் காவலனே காண்பரிய பேரொளியே
ஆற்றின்ப வெள்ளமே அத்தாமிக் காய்நின்ற
தோற்றச் சுடரொளியாய்ச் சொல்லாத நுண்ணுணர்வாய்80
மாற்றமாம் வையகத்தின் வெவ்வேறே வந்தறிவாம்
தேற்றனே தேற்றத் தெளிவேஎன் சிந்தனையுள்
ஊற்றான உண்ணா ரமுதே உடையானே
வேற்று விகார விடக்குடம்பி னுட்கிடப்ப
ஆற்றேன்எம் ஐயா அரனேஓ என்றென்று 85
போற்றிப் புகழ்ந்திருந்து பொய்கெட்டு மெய்ஆனார்
மீட்டிங்கு வந்து வினைப்பிறவி சாராமே
கள்ளப் புலக்குரம்பை கட்டழிக்க வல்லானே
நள்ளிருளில் நட்டம் பயின்றாடும் நாதனே
தில்லையுட் கூத்தனே தென்பாண்டி நாட்டானே 90
அல்லற் பிறவி அறுப்பானே ஓஎன்று
சொல்லற் கரியானைச் சொல்லித் திருவடிக்கீழ்ச்
சொல்லிய பாட்டின் பொருளுணர்ந்து சொல்லுவார்
செல்வர் சிவபுரத்தின் உள்ளார் சிவனடிக்கீழ்ப்
பல்லோரும் ஏத்தப் பணிந்து. 95

नमच्चिवाय वाअऴ्ग नादऩ्ताळ् वाऴ्ग
इमैप्पॊऴुदुम् ऎऩ्नॆञ्जि ऩीङ्गादाऩ् ताळ्वाऴ्ग
कोहऴि याण्ड कुरुमणिदऩ् ताळ्वाऴ्ग
आहम माहिनिऩ् ऱण्णिप्पाऩ् ताळ्वाऴ्ग
एहऩ् अनेहऩ् इऱैव ऩडिवाऴ्ग ५
वेहङ् कॆडुत्ताण्ड वेन्दऩडि वॆल्ग
पिऱप्पऱुक्कुम् पिञ्ञहण्ड्रऩ् पॆय्गऴल्गळ् वॆल्ग
पुऱत्तार्क्कुच् चेयोण्ड्रऩ् पूङ्गऴल्गळ् वॆल्ग
करङ्गुविवार् उळ्महिऴुङ् कोऩ्कऴल्गळ् वॆल्ग
सिरङ्गुविवार् ओङ्गुविक्कुञ् सीरोऩ् कऴल्वॆल्ग १०
ईस ऩडिबोट्रि ऎन्दै यडिबोट्रि
तेस ऩडिबोट्रि सिवऩ्चे वडिबोट्रि
नेयत्ते निण्ड्र निमल ऩडिबोट्रि
मायप् पिऱप्पऱुक्कुम् मऩ्ऩ ऩडिबोट्रि
सीरार् पॆरुन्दुऱैनम् तेव ऩडिबोट्रि १५
आराद इऩ्बम् अरुळुमलै पोट्रि
सिवऩवऩ्ऎऩ् सिन्दैयुळ् निण्ड्र अदऩाल्
अवऩरु ळाले अवऩ्ताळ् वणङ्ङ्गिच्
सिन्दै महिऴच् चिवबुरा णन्दऩ्ऩै
मुन्दै विऩैमुऴुदुम् मोय उरैप्पऩियाऩ् २०
कण्णुदलाऩ् तऩ्करुणैक् कण्गाट्ट वन्दॆय्दि
ऎण्णुदऱ् कॆट्टा ऎऴिलार् कऴलिऱैञ्जि
विण्णिऱैन्दु मण्णिऱैन्दु मिक्काय् विळङ्गॊळियाय्
ऎण्णिऱन् दॆल्लै यिलादाऩे! निऩ्बॆरुञ्जीर्
पॊल्ला विऩैयेऩ् पुहऴुमा ऱॊण्ड्रऱियेऩ् २५
पुल्लाहिप् पूडाय्प् पुऴुवाय् मरमाहिप्
पल्विरुह माहिप् पऱवैयाय्प् पाम्बाहिक्
कल्लाय् मऩिदराय्प् पेयाय्क् कणङ्गळाय्
वल्लसुर राहि मुऩिवराय्त् तेवराय्स्
सॆल्लाअ निण्ड्रइत् तावर सङ्गमत्तुळ् ३०
ऎल्लाप् पिऱप्पुम् पिऱन्दिळैत्तेऩ् ऎम्बॆरुमाऩ्
मॆय्येउऩ् पॊऩ्ऩडिहळ् कण्डिण्ड्रु वीडुट्रेऩ्
उय्यऎऩ् उळ्ळत्तुळ् ओङ्गार माय्निण्ड्र
मॆय्या विमला विडैप्पाहा वेदङ्गळ्
ऐया ऎऩओङ्गि आऴ्न्दहण्ड्र नुण्णियऩे ३५
वॆय्याय् तणियाय् इयमाऩ ऩाम्विमला
पॊय्या यिऩवॆल्लाम् पोयहल वन्दरुळि
मॆय्ञ्ञाऩ माहि मिळिर्गिण्ड्र मॆय्स्चुडरे
ऎञ्ञाऩम् इल्लादेऩ् इऩ्बप् पॆरुमाऩे
अञ्ञाऩम् तऩ्ऩै अहल्विक्कुम् नल्लऱिवे ४०
आक्कम् अळविऱुदि इल्लाय् अऩैत्तुलहुम्
आक्कुवाय् काप्पाय् अऴिप्पाय् अरुळ्दरुवाय्
पोक्कुवाय् ऎऩ्ऩैप् पुहुविप्पाय् निऩ्तॊऴुम्बिऩ्
नाट्रत्तिऩ् नेरियाय् सेयाय् नणियाऩे
माट्रम् मऩङ्गऴिय निण्ड्र मऱैयोऩे ४५
कऱन्दबाल् कऩ्ऩलॊडु नॆय्गलन्दाऱ् पोलच्
सिऱन्दडियार् सिन्दऩैयुळ् तेऩूऱि निण्ड्रु
पिऱन्द पिऱप्पऱुक्कुम् ऎङ्गळ् पॆरुमाऩ्
निऱङ्गळो रैन्दुडैयाय् विण्णोर्ग ळेत्त
मऱैन्दिरुन्दाय् ऎम्बॆरुमाऩ् वल्विऩैयेऩ् तऩ्ऩै ५०
मऱैन्दिड मूडिय माय इरुळै
अऱम्बावम् ऎऩ्ऩुम् अरुङ्गयिट्राऱ् कट्टिप्
पुऱन्दोल्बोर्त् तॆङ्गुम् पुऴुवऴुक्कु मूडि
मलञ्जोरुम् ऒऩ्बदु वायिऱ् कुडिलै
मलङ्गप् पुलऩैन्दुम् वञ्जऩैयैच् चॆय्य ५५
विलङ्गु मऩत्ताल् विमला उऩक्कुक्
कलन्दअऩ् पाहिक् कसिन्दुळ् ळुरुहुम्
नलन्दाऩ् इलाद सिऱियेऱ्कु नल्गि
निलन्दऩ्मेल् वन्दरुळि नीळ्गऴल्गळ् काअट्टि
नायिऱ् कडैयाय्क् किडन्द अडियेऱ्कुत् ६०
तायिऱ् सिऱन्द तयावाऩ तत्तुवऩे
मासट्र सोदि मलर्न्द मलर्स्चुडरे
तेसऩे! तेऩा रमुदे सिवबुरऩे
पासमाम् पट्रऱुत्तुप् पारिक्कुम् आरियऩे
नेस अरुळ्बुरिन्दु नॆञ्जिल्वञ् सङ्गॆडप् ६५
पेरादु निण्ड्र पॆरुङ्गरुणैप् पेराऱे
आरा अमुदे अळविलाप् पॆम्माऩे
ओरादार् उळ्ळत् तॊळिक्कुम् ऒळियाऩे
नीराय् उरुक्कियॆऩ् आरुयिराय् निण्ड्राऩे
इऩ्बमुन् दुऩ्बमुम् इल्लाऩे उळ्ळाऩे ७०
अऩ्बरुक् कऩ्बऩे यावैयुमाय् अल्लैयुमाञ्
सोदियऩे तुऩ्ऩिरुळे तोण्ड्राप् पॆरुमैयऩे
आदियऩे अन्दम् नडुवाहि अल्लाऩे
ईर्त्तॆऩ्ऩै याट्कॊण्ड ऎन्दै पॆरुमाऩे
कूर्त्तमॆय्ञ् ञाऩत्ताऱ् कॊण्डुणर्वार् तङ्गरुत्तिऩ् ७५
नोक्करिय नोक्के नुणुक्करिय नुण्णुणर्वे
पोक्कुम् वरवुम् पुणर्वुमिलाप् पुण्णियऩे
काक्कुमॆङ् कावलऩे काण्बरिय पेरॊळिये
आट्रिऩ्ब वॆळ्ळमे अत्तामिक् काय्निण्ड्र
तोट्रच् चुडरॊळियाय्स् सॊल्लाद नुण्णुणर्वाय्८०
माट्रमाम् वैयहत्तिऩ् वॆव्वेऱे वन्दऱिवाम्
तेट्रऩे तेट्रत् तॆळिवेऎऩ् सिन्दऩैयुळ्
ऊट्राऩ उण्णा रमुदे उडैयाऩे
वेट्रु विहार विडक्कुडम्बि ऩुट्किडप्प
आट्रेऩ्ऎम् ऐया अरऩेओ ऎण्ड्रॆण्ड्रु ८५
पोट्रिप् पुहऴ्न्दिरुन्दु पॊय्गॆट्टु मॆय्आऩार्
मीट्टिङ्गु वन्दु विऩैप्पिऱवि सारामे
कळ्ळप् पुलक्कुरम्बै कट्टऴिक्क वल्लाऩे
नळ्ळिरुळिल् नट्टम् पयिण्ड्राडुम् नादऩे
तिल्लैयुट् कूत्तऩे तॆऩ्बाण्डि नाट्टाऩे ९०
अल्लऱ् पिऱवि अऱुप्पाऩे ओऎण्ड्रु
सॊल्लऱ् करियाऩैच् चॊल्लित् तिरुवडिक्कीऴ्स्
सॊल्लिय पाट्टिऩ् पॊरुळुणर्न्दु सॊल्लुवार्
सॆल्वर् सिवबुरत्तिऩ् उळ्ळार् सिवऩडिक्कीऴ्प्
पल्लोरुम् एत्तप् पणिन्दु. ९५
 
इस मन्दिर का गीत                                                                                                                     बंद करो / खोलो

Get the Flash Player to see this player.

मुदलावदु कुरलिसै: तरुमबुरम् प. सुवामिनादऩ्,
उरिमै: वाणि पदिवहम्, काल्वाय् सालै, तिरुवाऩ्मियूर्, सॆऩ्ऩै ६०००४१
www.vanirec.com

इरण्डावदु कुरलिसै: तिरुत्तणि सुवामिनादऩ्,
उरिमै: वर्त्तमाऩऩ्, सॆऩ्ऩै ६०००१७
 
इस मन्दिर का चित्र                                                                                                                                   बंद करो / खोलो
   

अनुवाद:

तिरुवाचकम
1-षिवपुराण
( आदि अंत रहित प्राचीन स्वरूप षिव की गाथा)

नमः षिवाय की जय। नाथ के श्रीचरणों की जय।
क्षण-भर के लिए भी मेरे हृदय से विलग न होनेवाले श्रीचरणों की जय।
गोकली के आराध्य गुरुवर भगवान(षिव) के श्रीचरणों की जय।
आगम-स्वरूप भगवान के मधुर श्रीचरणों की जय।
एक भी, अनेक भी, उस ईष के श्रीचरणों की जय।
5

चंचलता को विनश्ट कर अपने में आत्मसात करनेवाले प्रभु के श्रीचरणों की जय।
जन्म-मृत्यु के बंधन काटनेवाले, चन्द्र-मुकुट-धारी, नूपुरमय श्रीचरणों की जय।
अपने से दूर रहनेवालों के लिए सदा अदृष्य, सुंदर श्रीचरणों की जय।
कर जोड़कर नमन करनेवालों को, प्रसन्न करनेवाले, महिमा मंडित श्रीचरणों की जय।
नत मस्तक हो प्रार्थना करनेवालों को तारनेवाले, प्रकाषमंडित श्रीचरणें की जय।
10

ईष के श्रीचरणों को नमन। पिताश्री के चरणों को नमन।
तेजोमय श्रीचरणों को नमन। षिव के पावन श्रीचरणों को नमन।
नेहमय निर्मल श्रीचरणों को नमन।
मायाप्रद जन्ममुत्यु के बंध विछन्नक, श्रीचरणों को नमन।
पवित्र पेरुन्देरै में विराजमान श्रीचरणों को नमन।
15

अतृप्त आनन्दमय पर्वतसम कृपालु भगवान के श्रीचरणों को नमन।
मेरे मन में वह षिव सदा विद्यमान हैं।
उन्हीं की कृपा से उनके चरणों को नमन करते हैं।
जपते हैं षिवपुराण की महिमा को,।
अपने पूर्व कर्मों विनिश्ट होने हेतु, मैं कहता रहूंगा कि,-
20

त्रिनेत्र ईष ने अपनी कृपा-कटाक्ष मुझ पर डाली, मैं उनके समक्ष
अज्ञात सौन्दर्य-स्वरूप श्रीचरणों की वन्दना करता हूं।
आकाष और पृथ्वीमंडल के उस पार दिव्यज्योति स्वरूप!
सीमा रहित, विस्तार स्वरूप, तुम्हारी कीर्ति का गुणगान करता हॅूं।
दुश्ट कर्मोें से घिरा मैं आपकी गाथा गा नहीं पाता।
25

घास-फूसों में, कीटों-पेडों में, पषु-पक्षियों में, सर्पों में।
पत्थरों में, मनुश्यों में, भूत-पिषाचों में,
देव-दानव, तपस्वियों में,
सृश्टि के जड़-चेतनों में तुम हो।
हे ईष! मैं बारम्बार जन्म लेकर थक गया हंू।
30

सत्य स्वरूप तुम्हारे श्रीचरणों को आज पहचाना।
इसी कारण मुझे दिव्यानुभूति मिली,
इस दास के उद्धार हेतु आपने ओंकार के मूल नाद को भर दो,
हे षक्ति-ज्ञान स्वरूप! वृशभ वाहन।
वेदादि ग्रन्थ भी आपको अपना ईष कहते हैं। विषाल व सूक्ष्म मेरे ईष।
35

तप-स्वरूप, षीतस्वरूप, पथप्रदर्षक व विमल हो।
मुझको असत्य से दूर करने हेतु आपने असीम कृपा की।
सत्य-ज्ञान तेजोमय, दिव्यज्याति स्वरूप!
मुझ जड़ बुद्धि को परमानन्द प्रदान करनेवाले हे ईष!
अज्ञान को दूर कर ज्ञान को संचरित करनेवाले!
40

आदि, अनंत, अगोचर सभी ब्रह्माण्डों के सृजन कर्ता,
रक्षक व विनश्ट करनेवाले हो।
मेरे ऊपर कृपा करो। मेरे दुष्कर्मों का नाष करो। मुझे अपना लो।
पुश्प-गंध स्वरूप् तुम नमन न करनेवालों से दूर,
नमन करनेवालों के निकट रहते हो।
षब्द-मन आदि से परे वेद स्वरूप् ईष,
45

गाय के दुग्ध में मिठास और घृत मिश्रित जैसे
भक्तों में मधु मिश्रित रूप में रहनेवाले,
जरा मरण को विनश्ट करनेवाले,
हे मेरे ईष, तुम स्वर्णिम हो, उज्जवल हो, लाल हो, काले हो, नीले हो,
पॉंच भूतों के पंचतत्व स्वरूप! देवगण आपकी स्तुति करते है।।
पर उन्हें भी आप दृश्टिगोचर नहीं होते। अपने को आप अदृष्य रखनेवाले हो
50

भयंकर कर्मों से घिरा मैं, स्वयं अपने को नहीं पहचान पा रहा हंू।
अंधकार से घिरा हॅूं, षुभ-अषुभ कर्मरूपी रस्सी से बंधा हंू।
कीटाणुओं तथा मल-मूत्र से भरे इस चर्म से ढका हूं।
नवों द्वार से मल बहनेवाले षरीर रूपी इस घर में।
पंचेन्द्रियॉं मुझे धोखा दे रही हैं, मन पषु बन गया है।
55

हे पावन, मैं तुझमें मिलकर, भक्ति रस में रमना चाहता हंू।
मुझमें गुण ही नहीं है, मैं निकृश्ट हूं, मेरे ऊपर आपने कृपा की
इस संसार में अवतरित होकर अपने दिव्य विषाल श्रीचरणों को दिखाया।
खान से भी निकृश्ट मुझ दास पर,
60

मॉं से भी बढ़कर कृपा की।
हे सत्य स्वरूप, दिव्य तेजोमय, पुश्प-स्वरूप
सौंदर्य, अमृतमय-मधुमय हे षिव!
संसार बंधन को काटकर मुझे बचानेवाले हे आर्य!
स्नेह से मुझ पर कृपा की है, मन से दुश्ट विचारों को दूर किया है।
65

मुझसे अलग न होकर, मेरे मन में अगाध प्रेम-नदी बहायी है।
अतृप्त अमृत-स्वरूप अतुलनीय हे ईष!
स्मरण न करनेवालों के अंदर भी स्थित तेजोमय ईष!
मेरे मन को जल की तरह प्रवाहित करनेवाले मेरे प्रियतम्!
सुख-दुख रहित भी हो, सहित भी हो।
70

प्रियपर के प्यारे हो, सर्वस्व तुम हो, नहीं भी हो।
तेजोमय स्वरूपी हो, साथ ही अंधकार स्वरूप भी हो।
तुम अजन्मा हो, आदि, अंत, मध्य से रहित हो,
मुझे अपनी ओर आकृश्ट कर कृपा प्रदान करनेवाले पिताश्री ईष हो।
सूक्ष्म सत्य ज्ञान से तुम पहचाननेवाले भी हो!
75

षोध परक तत्वज्ञ हो। सूक्ष्म से सूक्ष्म तुम हो,
जन्म-मृत्यु से परे पवित्र हो।
मेरे संरक्षक महेष, चक्षुज्ञान से परे तेजोमय रूप हो,
पे्रम नदी के प्रवाह हो, मेरे पिता! तुम सबसे बढ़कर हो।
तुम आत्मस्वरूपी हो, दिव्य ज्योतिर्मय, षब्द सीमा से परे हो,
80

अबाधगति से परिवर्तनषील इस संसार में भिन्न-भिन्न आकार में, अपने को सूचित करनेवाले हो।
तेज षिरोमणि हो! ज्ञान की पहचान हो, मेरे चित्त में,
सा्रेतवत् बहनेवाली स्वादिश्ट अमृत हो, सर्वस्व तुम हो
जर्जर होनेवाले षरार से आगे जीना नहीं चाहंूगा।
मेरे ईष षिव, षिव पुकारकर-
85

तुम्हारी स्तुति करनेवाले, सबने असत्य षरीर को छोड़कर दिव्य रूप पाया।
पुनः इस संसार में आकर जन्म बंधन से बचकर रहना चाहता हंू।
वंचक पंचेन्द्रियों से निर्मित षरीर गठन को विनश्ट करनेवाले मेरे ईष!
अर्द्ध रात्रि में नृत्य करनेवाले मेरे ईष!
तिल्लै के नटराज भगवान्, दक्षिण दिषा के पाण्ड्य नरेष।
90

जन्म-बन्धन को काटनेवाले हे मेरे देव!
षब्द सीमा से परे, षिवजी की स्तुति कर, उनके श्रीचरणों का वंदन कर,
आपकी अनुकंपा से रचे इन गीतों का भाव समझकर कहनेवाले-
षिवलोक जायेंगे, षिव के श्रीचरणों में आसीन होंगे।
सभी विनीत भाव से उन्हें नमन करेंगे।
95


रूपान्तरकार डॉ.एन.सुन्दरम 1996
சிற்பி